बुधवार, अक्तूबर 04, 2006

गांधी पर

संजय बेंगाणी के चिट्ठे पर टिप्पणी :
गांधी की निन्दा अवश्य करें लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखें :अपनी आत्मकथा को ‘सत्य के प्रयोग’ कहने वाला यह कहता था कि चूंकि यह प्रयोग है इसलिए यदि मेरे विचारों में एक विषय पर दो परस्पर विरोधी बातें मिलें तो बाद वाली को सही मानना.जैसे जाति प्रथा के बारे में उनके विचारों में परिवर्तन हुआ,खास तौर पर पुणे में बाबासाहब से उपवास के दौरान हुई चर्चा के बाद.दोनों महापुरुषों ने एक दूसरे को समझने की पूरी कोशिश की.‘४६,’४७ आते आते गांधी ने नियम बना लिया कि सवर्ण-अवर्ण शादी न हुई तो शरीक नहीं हूंगा.सेक्स और गुस्से के बारे में शायद कुछ सामने आता अगर ,लोहिया जिसे ‘हिन्दू बनाम हिन्दू’ के द्वन्द्व की घटना मानते थे - वह न होता.यानि हाफ़ पैंट वालों के हिसाब से-’गांधी-वध’. सरदार ने विभाजन का प्रस्ताव नहीं माना,या मानने की जल्दीबाजी नहीं दिखाई -यह एक प्रचार है.अंग्रेजों ने १२ मोटे-मोटे खण्डों में सत्ता हस्तांतरण के तमाम दस्तावेजों को प्रकाशित किया है,खूफ़िया रपटों सहित, उनमें झांका जा सकता है.गांधी के किसी पुत्र ने उनकी मदद से कुछ हासिल नहीं किया.नेहरू -गांधी दृष्टिभेद पर हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि मुख्यधारा की सामयिक राजनीति नेहरू के साथ ही गिनी जाएगी.पढाई से भागना अच्छा गुण नहीं है.

1 टिप्पणी:

  1. संजय बेंगाणी3:38 pm, अक्तूबर 04, 2006

    मुझे नहीं पता था कि बात निकलेगी तो दूर तक जाएगी. एक बार फिर मैं अपनी बात को स्पष्ट करना चाहता हूँ.
    गाँधीजी को मैं श्रद्धा से देखता हूँ, तथा इसमें कोई दिखावा नहीं हैं कि उनके दोषो को पढ़ कर भड़क जाऊँ. मैंने डंके की चोट पर कहा हैं की गाँधी को मैं एक महानतम नेता मानता हूँ और ऐसा मैं तब कह रहा हूँ जबकि मैं उनके दोष भी जानता हूँ. मैं अंधाभक्त नहीं हूँ. इसलिए निंदा करने का तो प्रश्न ही नहीं उठता. न ही मुझे किसी की निंदा करना पसन्द हैं.
    मुझे यह बात भी मालुम हैं की गाँधी के पुत्रो ने कोई लाभ नहीं उठाया था, साथ ही पटेल भी अपने पीछे कुछ नहीं चूड़ गये थे.
    मैंने गाँधी के मुँह बोले पूत्र यानी नेहरू की बात की हैं. क्या गाँधीजी ने उन्हे पटेल के स्थान पर प्रधानमंत्रि नहीं बनवाया था?
    हाफ पेंट, फूलपेंट या धोती क्या सोचती हैं इससे मुझे कोई लेनादेना नहीं हैं. मैने जो लिखा हैं वह मेरी अपनी सोच हैं. और व्यक्ति की नीजि सोच बिना पढ़े नहीं बनती यह तो आप भी मानेंगे.

    उत्तर देंहटाएं